« »

— / खो गया है मेरा यार कही /—

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

दिख जाये तो मुझको बताना ,खो गया है मेरा यार कही /

लो पहले मै नाम बता दू /
चलने का अंदाज बता दू /
सुर से सुर मिल बनता संगीत /
ऐसे नाम वाला मेरा है मीत /
लय ताल का तोडती हुई अभिमान ,बजे पाजेब की झंकार कही /
दिख जाये तो मुझको बताना ,खो गया है मेरा यार कही /
नागिन सी खा कर बल /
चलती है हिरनी सी चंचल /
महक फिजा में आ जाये ,आने से किसी के आये बहार कही /
दिख जाये तो मुझको बताना ,खो गया है मेरा यार कही /
हंस दे वो गर खिलखिलके /
टूटे तारे झिलमिलाते /
शर्म हया से झुकी पलके ,पलकों में पलता प्यार कही /
दिख जाये तो मुझको बताना ,खो गया है मेरा यार कही /
जुल्फों से करती है इर्ष्या /
काली बदली भूली वर्षा /
उलझे उलझे गेसुओ से करती हुई बोछार कही /
दिख जाये तो मुझको बताना ,खो गया है मेरा यार कही /
रूप ऐसा जन्नत की हूर/
वाणी जैसे वीणा के सुर /
मदमाता मधुरस घोलता मिल जाये शब्दकार कही /
दिख जाये तो मुझको बताना ,खो गया है मेरा यार कही /

6 Comments

  1. s n singh says:

    kyon ye kah tum rahe ho duniya pahle vo yaar ko tere dekhe.
    ishq sachcha hai to yahi hai bazaa yaar se kuchh nahin pare dekhe.

  2. Vishvnand says:

    अच्छी रचना
    मन भायी

    लगता है खो गया कहाँ नहीं
    मिला ही नहीं है ऐसा अब तक आपको यार कोई ….

    स्व . श्री सुर सागर जगमोहन जी का गाया एक सुरीला गीत याद आ गया
    “खयालों ही ख़यालों में किसीसे प्यार करता हूँ
    कभी देखा नहीं आंखोसे उसको जिसपे मरता हूँ “

Leave a Reply