« »

भगवान् का प्रेम कितना विशाल है

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

भगवान् का प्रेम कितना विशाल है
पूरा जगतो से बड़ा विशाल
करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
ईसलिए हम भगवान् को सुपर सुपर प्रेमी
प्रेम्मी बोलते है सुपर सुपर प्रेमी
धन्यवाद दया का समुन्द्र जैसा विशाल
प्रणाम प्रभुजी प्राण ज्योति
सभों प्राणियों का सुपर सुपर प्रेमी
करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल

2 Comments

  1. RAMAN LAL RANIGA says:

    भगवान् का प्रेम कितना विशाल है
    करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
    करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
    करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
    पूरा जगतो से बड़ा और विशाल
    ईसलिए हम भगवान् को सुपर सुपर सुपर प्रेमी प्रभुजी
    प्रणाम प्रभुजी प्राण ज्योति
    सभों प्राणियों का सुपर सुपर सुपर प्रेमी

  2. Raman Raniga
    RAMAN LAL RANIGA says:
    1 January, 2013 at 3:22 pm

    भगवान् का प्रेम कितना विशाल है
    करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
    करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
    करोड़ो करोड़ो करोड़ो समुन्द्र सह विशाल
    पूरा जगतो से बड़ा और विशाल
    ईसलिए हम भगवान् को सुपर सुपर सुपर प्रेमी प्रभुजी
    प्रणाम प्रभुजी प्राण ज्योति
    सभों प्राणियों का सुपर सुपर सुपर प्रेमी
    Like · · Share · 3 minutes ago ·

Leave a Reply