« »

वो एक अँधेरी रात थी

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Anthology 2013 Entries, Hindi Poetry, Jan 2012 Contest

वो एक अँधेरी रात थी

 चहुँओर पसरा था शान्ति साम्राज्य  

 पंक्षी पंखो को समेटे नीड़ में दुबके थे 

सभी गहरी निद्रा में निमग्न  थे

तभी भूकंप ने दिये करारे झटके 

फटा कलेजा धरा का,

 विकल सकल कायनात थी

 अनहोनी अक्समात थी

 वो एक अँधेरी रात थी 

 

पावस  के   बादलों  से  घिरा  आसमान  था

रात  के अँधेरे में डूबा जहांन   था

काराग्रह  में   कृष्णावतार   का   विधान  था 

अत्याचार पर  जंग   का  एलान  था 

बेड़ियाँ टूटीं ,फाटक खुले, कंस अनजान था

 गोकुल  प्रस्थान  समय, यमुना  में  उफान था

  सारी चौकसी ध्वस्त हुई

 बड़ी अलौकिक बात थी

 विधि  की  करामात  थी   

  वो  एक  अँधेरी  रात  थी

 

एक  साया   उभरा  अज्ञात  सा   

 अस्मिता  का  अँधेरे   में  सर्वनाश  था

  ये   भी  जबरदस्त   आघात  था 

 इंसानियत  पर   हैवानियत   का  नकाब   था 

 हादसा  गुज़र   गया  

 जो  बची  थी  लाश  थी   

 लुटी  लुटी  हयात  थी

  वो   अँधेरी  रात   थी                             

 

 अत्याचारी    सत्ता   ने

चीर -हरण   का  जाल  बिछाया

पांचाली  की  पुकार   पर  

 कृष्ण  ने  माया  से  चीर  बढ़ाया  

 दुर्योधन  दु:शासन  को  मात  दी   

 चौसर  की   बिछी  बिसात  थी 

 महाभारत  के  शंखनाद  सी 

 वह  भी  अकेली  रात  थी

 

संतोष भाऊवाला

      

17 Comments

  1. Vishvnand says:

    सुन्दर सी लिखी ये लगी नए अंदाज़ की
    वो अंधेरी रात कृष्णजन्म की बात की
    रचना मन को भायी; बधाई इस प्रयास की….

    • santosh.bhauwala says:

      रचना मन भायी
      मै कृतार्थ भयी
      मेरे मन ने भी
      अति ख़ुशी पायी
      आभार
      सादर संतोष भाऊवाला

  2. Sushil Joshi says:

    एक खूबसूरत आकर्षण है इस चित्रण में संतोष जी….. बधाई….

  3. rajendra sharma'vivek' says:

    Karmyogi shrikrishn bhagvan ka sambandh hai
    krishyug ka andheri raatri se anubandh hai
    rachanaa vyaapakataa liye hai
    badhaai santosh ji

    • santosh bhauwala says:

      आदरणीय विवेक जी ,रचना पसंद आई, अतिशय धन्यवाद !!
      संतोष भाऊवाला

  4. Aasthatiwari says:

    रचना पढ़ते समय वो एक अंधेरी रात आंखों के सामने नज़र आ रही थी…। बेहद खूबसूरत रचना के लिए धन्यवाद…

  5. medhini says:

    Hearty congratulations, the winner, Santhosh.B.

  6. rajdeep bhattacharya says:

    congrats
    very nice peom

  7. parminder says:

    अंधेरी रात का अति यथार्थ चित्रण किया है| बहुत सुन्दर अंदाज़ में प्रस्तुति है| बधाई!

Leave a Reply