« »

फिर एक बार तिरंगा लहराऊं [ एक सिपाही की शहादत के अंतिम क्षण ]

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Anthology 2013 Entries

     दीया अंतिम आस का [एक सिपाही की शहादत के अंतिम क्षण]

 

दीया अंतिम आस का,  प्याला अंतिम प्यास का
वक्त नहीं अब,   हास परिहास उपहास का
कदम बढाकर मंजिल छु लुं,  हाथ उठाकर आसमाँ
पहर अंतिम रात का,  इंतज़ार प्रभात का

बस एक बार उठ जाऊं, उठकर संभल जाऊं
दोनों हाथ उठाकर, फिर एक बार तिरंगा लहराऊं
दुआ अंतिम रब से,  कण अंतिम अहसास का
कतरा अंतिम लहू का,  क्षण अंतिम श्वास का

बस एक बूंद लहू की भरदे मेरी शिराओं मे
लहरा दूँ  तिरंगा मे इन हवाओं मे
फहरा दूँ विजय पताका चारों दिशाओ में
महकती रहे वतन की मिटटी गुजंती रहे गूंज जीत की
सदियों तक इन फिजाओं मे
सपना अंतिम आँखों में,  ज़स्बा अंतिम सांसो में
शब्द अंतिम होठो पर,  कर्ज अंतिम रगों पर
बूंद आखरी पानी की,   इंतज़ार बरसात का
पहर अंतिम रात का,  इंतज़ार प्रभात का

अँधेरा गहरा, शोर मंद
सांसें चंद, होसलां बुलंद,
रगों में तूफान, जस्बों में उफान
आँखों में ऊंचाई, सपनों में उड़ान
दो कदम पर मंजिल, हर मोड़ पर कातिल
दो सांसे उधार दे, कर लू में सब कुछ हासिल
जस्बा अंतिम सरफरोशी का,  लम्हा अंतिम गर्मजोशी का
सपना अंतिम आँखों में, ज़र्रा अंतिम सांसो में
तपिश आखरी अगन की,  इंतज़ार बरसात का
पहर अंतिम रात का,  इंतज़ार प्रभात का

फिर एक बार जनम लेकर इस धरा पर आऊं
सरफरोशी में फिर एक बार फ़ना हो जाऊं
गिरने लगूं तो थाम लेना,  टूटने लगूं तो बांध लेना
मिट्टी वतन की भाल पर लगाऊं
में एक बार फिर तिरंगा लहराऊं
दुआ अंतिम रब से, कण अंतिम अहसास का
कतरा अंतिम लहू का, क्षण अंतिम शवास का

दिनेश गुप्ता ‘दिन’ [https://www.facebook.com/dineshguptadin]

One Comment

  1. Vishvnand says:

    ह्रदय टटोलती सुन्दर स्तुत्य रचना,
    देशप्रेम और तिरंगे पर आहुति की वीर भावना
    इस रचना के प्रति हार्दिक भव्य वन्दना

Leave a Reply