« »

कहने वाले कहते रहते, पीनेवाले पीते हैं ……!

4 votes, average: 5.00 out of 54 votes, average: 5.00 out of 54 votes, average: 5.00 out of 54 votes, average: 5.00 out of 54 votes, average: 5.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Podcast
मेरी ये पुरानी रचना इक आखरी  पंक्ति  जोड़कर कर ( जो मेरे दोस्त ने सुझायी  थी) फिर पोस्ट कर रहा हूँ . आज  के  हालत  में  ये  रचना  पुरानी रचना से ज्यादा सही  है .. 🙂

लोकपाल बिल पर सरकार का जो व्यवहार चल रहा है वह ऐसा ही है. एक तरफ जब वो कहते हैं कि वो भ्रष्टाचार के खिलाफ हैं और लोगों को देश के भले के लिए भ्रष्टाचार से दूर रहना चाहिए वहीं वो खुद हर काम भ्रष्टाचार की वृद्धि  के लिए कर रहे हैं जिसमे ही वो खुद का भला समझते हैं. कडा लोकपाल बिल नहीं लाना चाहते क्यूंकि इससे इस सरकार के सारे फंसे नेताओं का भण्डा फूट जाना  है. ( Absolute double standard & cheating the public)

 

कहने वाले कहते रहते, पीनेवाले पीते हैं ( सत्योपदेश और राजनीति ) ……!

लाख मना करने पर भी क्यूँ पीनेवाले पीते हैं.
कहने वाले कहते रहते, पीनेवाले पीते हैं…….
हर महफ़िल मे पीकर ही क्यूँ, खुशियाँ हम मनाते हैं.
आओ यारों बिना पिए ही, आज गीत ये गाते हैं…..
लाख मना करने पर भी क्यूँ, पीनेवाले पीते हैं…….!

जीवन की उलझन सुलझाने, कोई इतना पीते हैं,
हँसते हँसते पीकर ये भी आख़िर रोते रहते हैं ….!

कोई पीते याद भुलाने, कोई यादों की खातिर,
कोई मस्त मजे मे पीकर, करते हैं जेबें खाली……!
( पहले पहले दोस्तों की, फिर ख़ुद अपनी )

कोई आते प्यास बुझाने, पी जाते हैं बस इतना,
फिर भी प्यास नहीं बुझ पाती, पीना है झूठा सपना…….!

खुशी हुई, ये तब भी पीते, गम हो, गम को भगाने पीते,
पीने का ना मिले बहाना, तो इस उलझन मे भी पीते …….!

पीने की आदत पड़ जाती, फिर तो ये बस पीते रहते.
पी पी कर खोखला हुआ तन, फिर भी पीना छोड़ न पाते ….!

इनको क्या समझाए कोई, ख़ुद “जीवन” है एक नशा,
चढ़ जाए जीवन का नशा जब, इसमे सब आता है मज़ा …..!
जिसने जब यह सच है जाना, उसे न पीने की परवाह ….!

दुनियावालो  S   S   S   ………
असली जीवन का रस पीना, दुनियावालो तुम सीखो,
हरदम मस्त मजे मे रहकर, बिना पिये जीना सीखो……….!(सत्योपदेश )

और जो बोतलें पास में हों तो “पास  ऑन” हमको कर दो …. ( आज की राजनीति )

“ विश्व नन्द ”

8 Comments

  1. siddha Nath Singh says:

    bahut khoob ant bhala so sab bhala.

  2. Sir ,
    Loved it and it ends on a beautiful note of sharing .Enjoyed very much the line ‘ Inko kya samjayae koi , khud jeevan hai ek nasha . ”
    keep up the gems collections …
    sarala.

  3. dhananjay says:

    loved it….kick the bottle & accept life ~~~~

  4. सन्देश देती यह रचना जैसे मिठाई में दवाई है
    आपके विचारो की ताजगी हमें खूब भायी है

  5. chandan says:

    सत्योपदेश और राजनीति दोनों खूब

  6. Mehar Singh says:

    जैसा मैंने सुना आपका इस दुनिया नाम , वैसी कविता लिखी आपने कितना सुंदर काम , कितना सुंदर काम लिखा (ठीक) है सोलह आने , पूरी करली याद चला मैं बहार सुनाने.

    • Vishvnand says:

      @Mehar Singh
      सुन्दर भाया कमेन्ट आपका
      पढ़कर देता हूँ मैं दुआ
      बिना पिए ही चढ़ा नशा
      …..

  7. Vishvnand says:

    siddha Nath Singh, SARALA KURUP JAGAN,
    dhananjay, rajendra sharma ‘vivek’, chandan

    Thank you all heartily for your lovely comments of appreciation on this post and encouragement for the effort.
    Sorry for this belated acknowledgement through oversight.

Leave a Reply