« »

अब तो मरना भी यहाँ बेहाल है………….

2 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

अब  तो  मरना  भी यहाँ  बेहाल  है………….     

अच्छा हुआ “बाबा” आपने,

वचन दिया कीमते कम करने का,

रसोई गैस की कीमते सुनकर तो,

वक़्त आया था भूखे मरने का,

पेट्रोल, डिझेल के साथ,

रसोई गैस के दाम भी बढ़ रहे है,

इसीलिए तो सब आजकल,

भूख हड़ताल कर रहे है,

जिससे थोडीसी तो गैस बच जाएगी,

एक महीने की गैस में,

डेढ़ महीने की रसोई बन जाएगी,

लाचार,मजबूर हम,

और कर भी क्या सकते है, 

आईने में देखकर खुदको,

आइना छिपाकर रखते है,

जिन्दा होने के एहसास को,

पाने भर के लिए इसका इस्तेमाल है,

जीना तो कब का हो चूका,

अब तो मरना भी यहाँ  बेहाल है,     

जैसी “बहनजी” ने दिखाई,

“ममता”  आप भी दिखा दीजिये,

भूख से मरने के बाद,जलाने के लिए,

“राकेल” को तो छोड़ दीजिये……..    

10 Comments

  1. mattbugno says:

    Yogesh, very nice even from my perspective of literal translation.
    Is Baba – Tata in disguise?

    I enjoy your verses:

    “As “sister” of the show,
    “Love” you show me,
    After dying of hunger, to burn;
    “Rakel” Leave it to … … .. ”

    As they bring me to the conclusion it is all for naught in action against LPG.

    Thank you for the read.

    Matt

  2. Vishvnand says:

    बहुत सुन्दर मार्मिक और प्रशंसनीय
    अति मन भायी
    सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई

    महँगा सब कुछ कर दिया ख़तम करी इंसानियत
    सही लोकपाल बिल लाने अब इन्हें बड़ी हैरानियत
    सियार और पागल से सबल और दिगज को आगे कर
    पीछे चुपचाप मौन ही खेल रहे मन मोहन सोनजी डर डर
    ऐसा अब और नहीं चलने देंगे जान गयी है जनता सब
    सरकार का “विनाशकाले विपरीत बुद्धि” सा आया है समय अब…
    बाबा रामदेव, अन्ना हजारे और सच्चे देशवासिओं की बोलो जय….

  3. jaspal kaur says:

    आज के वक्त को दर्शाती हुई अच्छी रचना.

  4. mattbugno says:

    Vishvand,

    Thank you for pointing me in the correct direction. I now understand as I have some knowledge of Indian politics.

    स्वामी रामदेव, Got it! Thank you ever so much.

    The best I do is the a read of the DNAIndia once a week on Saturday so I am prone to missing much.

    Matt

  5. Ravi Rajbhar says:

    लाचार,मजबूर हम,
    और कर भी क्या सकते है,
    आईने में देखकर खुदको,
    आइना छिपाकर रखते है,
    ek am jan ki bhawnao ko apne bakhubi piroya hai….
    ek bhawpoorn rachna ke liye badhai swikare bro…….!!

Leave a Reply