« »

हम भारत के लोग

2 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

हम
भारत के लोग
भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व संपन्न
समाजवादी लोकतंत्रात्मक गणराज्य – नहीं बनने देना चाहते.

और हम समझते हैं
कि इसके सभी नागरिकों के लिए जरूरी है
कि वो इस बात को अच्छी तरह समझ लें
कि हमारे लिए देश की महानता इसी में है
कि वो अच्छी क्रिकेट खेले.

और हम चाहते हैं
कि देश की एकता एवं उन्नति को ध्यान में रखकर
उन सभी लोगों को देशद्रोही करार दें –
जो हमारी बात से इत्तेफाक नहीं रखते.

और हम मानते हैं
कि भगवान् है. उन सबमें है –
जो हथेलियों से भभूत पैदा कर सकते हैं.

और हमारा कर्तव्य है
कि हम आस्था बनाये रखें,
भले ही भगवान् कि भविष्यवाणियाँ गलत साबित हों.
भगवान् गलतियां नहीं लीलाएं करते हैं.

और हमारा अधिकार है
उन सब लोगों को जला देने का –
उन सब लोगों को गालियाँ देने का –
जिनकी आस्था हमारे भगवान् पर नहीं.

विचार अभिव्यक्ति का अधिकार
उनके लिए नहीं – जो बहुमत के खिलाफ बोलें

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    A fantastic beautiful impacting manner of conveying
    The disease in our country pervading & proliferating
    How can we improve if these ills we are not addressing
    A post one should be repeatedly reading to assimilate & acting
    Liked immensely
    Hearty Kudos

    और हमारी डेमोक्रेसी में इलेक्शन में बहुमत पा लिया
    तो हम जो भी करें हमें सब माफ़ है
    देश हमारी खाजगी संपत्ति बन जाती है
    हमें बुरे कामो के लिए दंड देना जुर्म बन जाता है….
    सब क़ानून आम जनता के लिए हैं हमारे लिए नहीं……

  2. siddha Nath Singh says:

    bahut vicharottejak sashakt rachna.
    leelaon se leelte hain kitno ka bhaag
    gathri looten fir kahen jaag musafir jaag.

Leave a Reply