« »

शहीद की बीबी

2 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

                           गाहे बगाहे जब  भी छत पर चढ़ती हूँ

                           उसे किसी की राह तकते देखती हूँ !!
 
                          शहीद ने बड़ी मुश्किलों से धरती माँ की इज्जत बचाई है
                          और शायद इसीलिए वो शहीद की बीबी कहलाई है  !!
 
                          शहीद छोड़ गया इसे पूरे देश के हवाले
                          फिर भी क्यों नही मिलते इसे दो वक़्त के निवाले !!
 
                         चंद महीनों में बदल गया है चेहरे और दीवारों की परतें
                         दरवाज़े पर टंगा तिरंगा भी पूरी नही करता इसकी जरूरतें !!
 
                         मेडलों के साथ साथ पड़ोसियों के बर्तन भी चमकाती है
                         पल में रूठ जानेवाली वो अब सिर्फ मुस्कुराती है ……..!!       
 
                         अब तो इज्जत के चंद टुकड़े भी कभी कभी मिलतें  हैं
                         इस सभ्य समाज में भेडिये खुलेआम जो घूमते हैं …!!
 
                         उसके अन्दर का आसमान हर रोज बरसता है
                         थोड़ी सी धुप के लिए हर साँस तरसता है !!
 
                         इससे तो अच्छा रणभूमि पर यह भी चली जाती
                         गोलियां खा कर अपनी भूक तो मिटाती!!
                         और सबसे बड़ी बात यह भी शहीद कहलाती !!
                        
                       
                    
                       

10 Comments

  1. rajiv srivastava says:

    sahid ki biwi kahlana kabhi garv ki baat the
    ,Aaj sahid to chale jaate hai,
    aur unke parijano ke haq
    ka aasiyana tak koi aur le jate hai

    bahut sunder aur marsparshi rachana–badahai sweekaren

    • pallawi says:

      @rajiv srivastava,

      shaheedon k parijano k maan sammaan jaruraton ka khayaal rakhna pure bharatvasiyon ka kartabya hai !!p4poetry k madhyam se desh k real heros ko salute to kar hi sakte hain
      itni achchi pratikriya ke liye bohut bohut dhanyabaad !!

  2. bhut achchhi kavita

    hmen shaheedon ke praijanon ka respect karna naheen aaya hai tabhee to Mumbai men Adarsh building jo shaheedon ke prijanon ke liye thee, hamaare ministers ne hadap li hai

  3. dr.ved vyathit says:

    मेरी नही चिता मेले यहाँ कहीं लग पाएंगे
    गोली सिने पर खाई तो भी प्रश्न उठाएंगे
    बेशर्मी की हद हो गई आतंकी सम्मानित हैं
    अगर देश पर मर जाओगे तो भी प्रश्न उठाएंगे
    बहुत २ सरे वादे तो कए चिता पर जायेंगे
    पर जैसे ही चिता बुझेगी दिए भुला वे जायेंगे
    फिर उन के पीछे २ फिरने में जूती टूटेंगी
    अम्र शहीदों के घर वाले दर२ ठोकर खायेंगे
    सुनसर विषय है आप की रचना का बधाई

  4. nitin_shukla14 says:

    Pallawi,

    Words are less to appreciate ur thoughts..
    Very Genuine Lines with lot of emotions..
    Good one

  5. Vishvnand says:

    बहुत ह्रदयस्पर्शी भावपूर्ण रचना
    इक कटु सत्य का प्रभावी दर्पण ,
    बात तो बिलकुल सही है, हम या हमारी सरकार शहीदों के गुणगान में नारे तो बहुत लगाते हैं पर उनके परिवार के लिए करते कुछ भी नही सिर्फ advertisement बहुत वो भी राजनीति में फायदे के लिए. .
    प्रशंसनीय रचना. Commends

Leave a Reply