« »

तलाश

2 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 5
Loading...
Hindi Poetry
ग़मों के समंदर में,
                          खुशनुमा मोती की तलाश है |
 
काँटों के चमन में,
                          मखमली गुल की तलाश है |
 
नीले आसमाँ में, 
                         एक चुलबुले पंछी की तलाश हैं |
 
इन हवाओं में,
                         भीनी सी ख़ुशबू की तलाश है |
 
दुनिया की भीड़ में,
                         अपनेपन की तलाश है |
 
न जाने मन को, 
                         अभी किसकी तलाश है….. 
 
(रूचि मिश्रा)  

8 Comments

  1. siddha Nath Singh says:

    khuda kare ki teri justajoo safal bhi ho.

  2. Vishvnand says:

    बहुत सुन्दर, मनभावन रचना
    हार्दिक बधाई …
    कवि को मन की हर तलाश को
    तलाशने की तलाश है ….

  3. medhini says:

    A nice , meaningful and imaginative poem, Ruchi.

  4. pallawi says:

    very nice liked it!!

Leave a Reply