« »

न मिलना बेहतर ….!

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

 


न मिलना बेहतर ….!

आया है सन्देश तुम्हारा,
चाहो तुम मिलने का अवसर
सोच में हूँ कुछ समझ न आता
तुमको क्या है करना मिलकर ….

बहुत चाहता तुझसे मिलना,
पर दिल कहता न मिलो बेहतर,
ख्यालों में जो तेरा प्यार है,
छीन न ले तू मुझसे मिलकर …!

तुझको तो कुछ याद न होगा
कैसा अपना प्यार रहा तब
क्यूँ तुम मुझसे मिलना चाहो
ऐसा क्या जो आन पडा अब

साथ मेरा तुमने था छोड़ा,
नही हुआ था कुछ भी झगड़ा
पिता को ना मंजूर प्यार ये
वजह बता तुम हुए लापता…

प्यार मिला जो मुझे कभी था
यही  मेरे जीवन का है सुख
दिल अब और नहीं कुछ चाहे,
सुधर गया झेल कर सब दुःख.

इसीलिये दिल कहता मेरा
नहीं मिलूँ तुझसे है बेहतर
ख्यालों में जो तेरा प्यार है,
छीनोगी तुम वो भी मिलकर….

” विश्वनंद “


9 Comments

  1. Raj says:

    Vishvnand ji, logically correct but what to do – दिल है कि मानता नहीं. सुन्दर रचना.

    • Vishvnand says:

      @Raj
      Thanks for your comment & appreciation.
      The point I want to derive is that in most cases the virtual reality which we decorate within is far appealing & superior to the reality, for the reality tends to destroy and take away all we hold lovingly within in self created virtual reality..

  2. U.M.Sahai says:

    अच्छा प्रेम गीत, विश्व जी. पसंद आया.

    • Vishvnand says:

      @U.M.Sahai
      रचना पर आपके कमेन्ट का हार्दिक स्वागत और धन्यवाद ..

  3. shakeel says:

    सर जी नमश्कार,

    आज बहुत दिनों बाद मौका मिला है आपकी रचना पढने का मगर जब भी पढो आपको आप का जादू वैसा ही मज़ा देता है.
    मैं घबराता हूँ की आपकी तारीफ़ मैं कैसे करुं आप की कलम कहाँ और मेरे शब्द कहाँ

    • Vishvnand says:

      @shakeel
      आपके ऐसे आदरयुक्त कमेन्ट का मैं बहुत आभारी हूँ और आपका और आपकी रचनाओं का मैं भी दिल से बहुत आदर करता हूँ . आपको ये रचना भायी ये जानकार बहुत खुशी और तसल्ली हुई. आपका तहे दिल से शुक्रिया. …

  4. parminder says:

    ख्यालों में जो तेरा प्यार है,
    छीन न ले तू मुझसे मिलकर …!
    सही है, ख़्वाबों की दुनिया यथार्थ से बेहतर लगती है! बहुत खूब!

    • Vishvnand says:

      @parminder
      आपके सुन्दर कमेन्ट के लिए बहुत धन्यवाद. यही सही है. आजकल के माहौल में और जीवन के इस दौर में यथार्थ नहीं ख्वाब और ख्याल ही तो हैं जो नितांत खुशी देते हैं.

  5. prachi sandeep singla says:

    veryyy nice

Leave a Reply