« »

आँसुओं पर राजनीति ,कैसी कूटनीति

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

धरती माँ की धानी चुनरिया रंग गयी लाल

सर का ताज लौटाने शहीद हुआ, यशोदा का गोपाल

अन्धादुंद गोलियां ,उड़ गये निर्दोषों का परखच्चे

आज भी नेताओं ने खेले राजनीति के पत्ते

सम्मान की मखमली चादर में, होने लगा अपमान

तिरंगे में लिपटा होकर भी रोया वीर महान

चिता की लपटों से भी निकली ये दुआ

दुश्मनों से देश को बचाना ए खुदा

फोलादी इरादों से हर कोशिस होगी नाकाम

देश का हर भारतीय करता दिल से तुझे सलाम

11 Comments

  1. Sanjay singh negi says:

    vry nice poem

  2. Sanjay singh negi says:

    or ek achhi suruvaat bhi
    aapka hardik swagat hai kavi mandli me

  3. vmjain says:

    aap ka swagat hai. achchhi shuruaat hai.

  4. rachana says:

    achchi kavita

  5. Vishvnand says:

    बहुत खूब,
    मनभावन कविता और उसमे विदित गहन सुन्दर विचार,
    p4poetry पर आपका सहर्ष स्वागत, आये जो आप अब हमारे इस परिवार .

    छोटी सी जिन्दगी में खुद खर्च होते रहना बहुत बड़ी है बात ,
    क्या जानें वो जो बेकार बडाई मारे रहते करने अपनी जिन्दगी बर्बाद…

  6. siddhanathsingh says:

    भाव भरी परन्तु भाषा के अनगढ़पन से जूझती कविता.

  7. pallawi verma says:

    bohut bohut dhanyabaad

  8. pallawi verma says:

    dear sir siddhanathsingh ji aapka bohut bohut dhanyabaad jo aapne mere vicharo ko kavita ka naam diya , mai apne bhasa k agyanta ko dur karne ki kosis jarur karungi maine ek suruaat karne ki kosis ki hai aapka bohut bohut dhanyabaad

  9. pallawi verma says:

    @vishvnand aapka bohut bohut dhanyabaad vishvnand ji aapne meri suruaat ko saraha ,mai kosis karungi ki achcha likhu

  10. pallawi verma says:

    @rachana thanku maam
    aapki bohut saari poems roz padti hu bohut achchi hain

  11. pallawi verma says:

    @vmjain
    aapka bohut bohut dhanyabaad

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0