« »

“ये कविता नहीं आसां”

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

कविता लिखना इतना आसान नहीं,
पर है यह इतनी मुश्किल भी नहीं.
जहाँ हो अंत खुशियों की है वहीं शुरुवात नईं,
या फिर खुशियों की महफिलों में भी अंत नहीं.
गमों के अंधकारों में समटी कविता,
या फिर खुशियों की सितारो में लिपटी कविता,
जिंदगी के हर लम्हों में जन्म लेती कविता.
है इसे सीखने की बडी अनोखी कला,
कुछ चोटें खानी है कुछ दर्द सहने हैं,
कुछ आँसु पीना है और कुछ मरकर जीना है,
कविता के लब्ज से हर दर्द को सीना है.
हर चलती नब्ज में विचारो को बुनना है,
हर जुल्म को,हर जख्म को अपना समझना है.
जख्मों के रिसाव से फिर भावनाऒं में बहना है,
भावनाऒं की धार को पन्नों पर उतारना है.
हर उतरे हुए शब्द को लय में लाना है,
हर लय में फिर अपनी धुन सुनाना है.
मेरे विचार में इतनी कठिन भी नहीं कविता लिखना,
मन से निकली सच्ची भावनाऒं को बस है समझना,
बस कुछ इस तरह सीख जाओगे आप भी कविता लिखना..
राजश्री राजभर

21 Comments

  1. vmjain says:

    आपकी कविता पढ़ कर लगता है, कविता लिखना कितना आसान है. दर्द से रु-ब-रू रहिये, बस. अच्छी लगी.

  2. Ravi Rajbhar says:

    kawita बहुत अच्छी लगी bahut pyari laga main kawita ki क्लास में हूँ…
    thanx guru jee…

    • rajshree rajbhar says:

      Thanx alot Raviji .Actually i also dont know how to write poems,I am just trying to write.ur poems are better than me.

      • Ravi Rajbhar says:

        @rajshree rajbhar,
        चने ke झाड़ पर ना चढ़ाइए राजश्री जी ….
        सच तो ये है की आपकी रचनाओ से मुझे लिखने की प्रेना मिलती है..
        ये आपका बडक्पन है जो मुझे इस काबिल samjha …
        रचना वाकई बहुत अच्छी है…बधाई ..

  3. Shailesh Mohan Sahai says:

    बहुत अच्छा लिखा है राजश्री जी, बधाई हो.
    शैलेश

  4. vpshukla says:

    behatareen kavita.badhai.

  5. Sanjay singh negi says:

    vry nice poem
    aapna to kavita likhne ke kayi karan hi bata dale

    • rajshree rajbhar says:

      Kavita likhne ke hajaro karan ho sakte hai isse hum hajaron kavita likh sakte hai sir Thanx for ur best comments.

  6. Vishvnand says:

    कविता के बारे में,
    बहुत सुन्दर है इस रचना में भावना
    और हमें है यकीं, खुश होगी कविता
    और उसका भी यही होगा कहना.
    आपको हार्दिक बधाई,
    बहुत सुन्दर अर्थपूर्ण आपकी ये रचना

  7. siddhanathsingh says:

    अच्छी कविता परन्तु लिंगभेद की उपेक्षा खटकती है. उदाहरण के लिए १. अगर कविता लिखना इतना आसन नहीं तो इतना मुश्किल भी नहीं होना चाहिए न कि इतनी मुश्किल. २. अंत खुशियों कि न होकर अंत खुशियों का होना चाहिए.३. खुशियों कि सितारोंमे की बजाय खुशियों के सितारों में होना चाहिए.४.इतनी कठिन भी नहीं कविता लिखना की जगह इतना कठिन भी नहीं लिखा जाना चाहिए.
    आशा है इसे सही भावना से लेंगीं और प्रशंसकों को और प्रशंसा का मौका देंगीं सुधरे हुए शब्द संयोजन से.

  8. राजश्री, सबसे पहले मनमोहक और इस सुंदर सी कविता के लिए हार्दिक बधाई. चंद लफ़्ज़ों मैं सिर्फ यही कहना चाहूँगा, अपने मन में अहसास और अनुभूति को जिंदा रखना, तुम्हारी जुबां से बात बात पर एक नयी कविता पैदा होगी.

  9. Raj says:

    सुन्दर रचना.

  10. Ramesh Chandra Prasad says:

    राजश्री जी आपकी कविता बहुत अच्छी है.
    रमेश चंद्र प्रसाद
    रायगढ़, छत्तीसगढ़

Leave a Reply