« »

जिंदगी एक ख्वाब बनकर रह गई…..

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

जिंदगी एक ख्वाब बनकर रह गई,
जब से तूम चली गई,
हम तो आंसू रोकने में लगे रहे,
यह तो जैसे नदियाँ थी, बह गई,
सुखी घरौंदे के ख्वाब, जब सजाये थे हम,
शामते उसी वक़्त, आ गई,
हमें संभलने का, मौका भी नहीं दिया,
अपना असली रंग, दिखला गई,
कहते है, मुसीबते जब आती है,
चारो तरफ से, आती है,
हर अच्छे भले को, खोकला कर जाती है,
पर यह कैसी, मुसीबत है,
न रुलाती, न हँसाती है,
बस घुट घुट कर, मरना सिखाती है,
क्या हमारा ख्वाब, पूरा हो पायेगा?
पतझड़ के बाद, सावन आएगा?
बहार बनकर छाई जिन्दगी,जब तुम आयीं,
कहर बनकर ढाई जिन्दगी, जब तुम गई,
इल्तजा बस इतनी है, हर वक़्त साथ रहना,
तुम गर साथ हो,हर गम झेल जायेंगे,
तुम्हारे साथ हर हाल में, हम मुस्करायेंगे,
गिनती गर तुम, हमपर आई मुसीबतों की करो,
हम तो जीतेंगे, मुसीबत देनेवाले हार जायेंगे……..

16 Comments

  1. medhini says:

    Agood poem, Liked it.

  2. Vishvnand says:

    Very nice poem, Very lovely content & narration of thoughts & feelings in the poem. Liked it much.
    But unlike your other poems, sincerely feel, this one needs some more input from you to improve its flow for excellence..

    & lovely content in the poem

    • dr.paliwal says:

      Thanks sirji……
      This one is 3rd poem of my life……..
      Yes I agree it needs some input to improve……

  3. Tushar.Mandge says:

    sir,nice poem

  4. बहुत बढ़िया सर जी , खासकर ये पंक्तिया तो लाजवाब है …
    तुम गर साथ हो,हर गम झेल जायेंगे,
    तुम्हारे साथ हर हाल में, हम मुस्करायेंगे,
    गिनती गर तुम, हमपर आई मुसीबतों की करो,
    हम तो जीतेंगे, मुसीबत देनेवाले हार जायेंगे……..

  5. shakeel says:

    जिंदगी एक ख्वाब बनकर रह गई,
    जब से तूम चली गई,
    हम तो आंसू रोकने में लगे रहे,
    यह तो जैसे नदियाँ थी, बह गई

    waah paliwal sahab ek aur behad behtreen rachna aapki

  6. Ravi Rajbhar says:

    तुम गर साथ हो,हर गम झेल जायेंगे,
    तुम्हारे साथ हर हाल में, हम मुस्करायेंगे,
    गिनती गर तुम, हमपर आई मुसीबतों की करो,
    हम तो जीतेंगे, मुसीबत देनेवाले हार जायेंगे……..
    बहुत khub sir …आपकी rachna से दिल को कितना सुकून मिला की पूछिये मत …..
    क्या खूब लिखें हैं आप…जीतनी भी प्रशंशा करू कम है …har लाइन आपने aap me बहुत dard समेटे है ….एक अच्छी रचना के लिए बधाई ……

  7. Preeti Datar says:

    It’s ever so rare that someone inspires us so much that we defeat the defeat…wll written 🙂

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0