« »

***कभी-कभी ..**

2 votes, average: 5.00 out of 52 votes, average: 5.00 out of 52 votes, average: 5.00 out of 52 votes, average: 5.00 out of 52 votes, average: 5.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

सोचा था लावा दिल का धीरे धीरे बुझ जाएगा
पर, देखा है धुंआ बुझे हुए अंगारों से अभी अभी
मानते हैं,चाहत की तपिश कभी ठंडी नहीं होती
याद आते ही गर्म अश्कों की बरसात होती है कभी-कभी

sushil sarna

13 Comments

  1. dr.paliwal says:

    Bahut khoob sirji….

  2. krishna says:

    Awesome,amazing,revealing,painful…
    I can’t think of more words to appreciate how beautiful it is.
    Very very well written. Hits your straight…
    Lovely and thank you so much for posting this…

    • krishna says:

      I have included this in my Favorite Poems…
      Thanks…

    • sushil sarna says:

      krishna jee, aapkee jitnee taareef kroon utnee km hai isliye naheen ke aapko meree rchna psnd aaee blkee meree rchna aapkee nzron ke tareef ke kaabil bnee-dnhyvaan

  3. Tushar.Mandge says:

    sir बहुत अच्छी शायरी है, it says much more in few words

  4. Raj says:

    सोलह आने सच. “चाहत की तपिश कभी ठंडी नहीं होती” और इसीलिए इस दौर से गुजरे हुए इंसान को जब कभी कोई दूसरी चाहत थोडी ठंडक देती है तो वो बड़ी असमंजस की स्तिथि होती है उसके लिए.

    • sushil sarna says:

      राज जी, मेरी रचना की लाईनों में अंगडाई लेती सच्चाई को आपने बखूबी पहचाना है-shukriya

  5. vartika says:

    सुंदर…………..

  6. sushil sarna says:

    thanks a lot for appreciation, Renu jee

Leave a Reply