« »

माँ

1 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

Happy Mother’s Day

माँ ,
एक शब्द ,
छिपा है जिसमे ,
एक अनोखा संसार !

माँ ,
एक शब्द ,
आँचल में जिसकी ,
सुकून है सारे जहाँ का !

माँ ,
एक शब्द ,
गहराई है जिसकी ,
अथाह सागर के समान !

माँ ,
एक शब्द ,
सबसे है न्यारा ,
सबसे प्यारा ये शब्द !

– सोनल पंवार

12 Comments

  1. seema says:

    Yes Sonal such a small word that means the world to us… A very nice poem short and sweet

  2. rits says:

    nice & short poem.

  3. medhini says:

    A nice poem. Liked it.

  4. rajdeep says:

    sonal bahut hi sundar kavita, bahut din baad aapse kush padne ko mila
    ati sundar

  5. Its realy a good poem.. short and sweat…
    I think now its more rythmic…
    माँ ,
    एक शब्द ,
    छिपा है जिसमे ,
    एक अनोखा संसार !

    माँ ,
    एक शब्द ,
    आँचल में जिसकी ,
    सुकून है लाखो हजार !

    माँ ,
    एक शब्द ,
    गहराई है जिसकी ,
    अथाह सागर से अपार !

    माँ ,
    एक शब्द ,
    सबसे है न्यारा ,
    सबसे प्यारा हर बार !

  6. deeep_sri says:

    nice

  7. tushar says:

    sonal,nice poem

  8. vartika says:

    सही कहा सोनल जी… माँ होतीं ही ऐसी हैं, तो उनका संबोधन ऐसा क्यूँ ना हो….:)

  9. Mehar Singh says:

    वाह वाह क्या खूब लिखा है. धन्यबाद कहना चाहूँगा .

Leave a Reply