« »

p4poetry

1 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

          p4poetry  

गुल से बनता है गुलिस्तान
और महकती है फिज़ा जैसे ,
चाँद-सितारों का है वो आसमान
और रोशन है ये जहान जैसे ,
वैसे ही  p4poetry  में हो
कवियों की चमक ,
कविताओं की महक ,
और हो खुशियों की खनक ,
और सदा यूँ ही महकती रहे
जीवन की बगिया ये धनक !

                       – सोनल पंवार

4 Comments

  1. vartika says:

    pyaari si rachnaa aur shubhkamnaon k liye dhanyawaad….aapke saath saath hum sabhi ki bhi yahi dua hai ki p4p ki dhanak ke sabhi rang jagmagate rahein…. 🙂

  2. Vishvnand says:

    Very lovely poem.
    Liked the poem & the sentiments expressed in it very much.

Leave a Reply