« »

“उड़ना चाहूँ मुक्त गगन में”

8 votes, average: 3.88 out of 58 votes, average: 3.88 out of 58 votes, average: 3.88 out of 58 votes, average: 3.88 out of 58 votes, average: 3.88 out of 5
Loading...
Anthology 2013 Entries, Crowned Poem, Hindi Poetry, Jan 2011 Contest

ज़माने की बंदिशें तोड़कर,
उड़ना चाहूँ मुक्त गगन में…
काँटों में उलझे ज़ख्मी पंखों से,
भय को भूलकर इस जीवन में…
तालों को तोड़, काट सब ज़ंजीरें,
चीर अँधेरा, पागलपन में…
उड़ना चाहूँ मुक्त गगन में…

 

वो जीवन क्या जीवन जिसमें,
कर न सको जो चाह हो मन में…
प्राणों की परवाह नहीं है,
भटक रहा है मन वन-वन में…
प्यास मिटाने की खातिर है,
आग जो भीतर सुलग रही…
स्वप्नों की उस दुनिया में,
जाने की है आस जगी…

 

क्या ये धरती और ये अम्बर,
साथ चलेंगे मेरे…?
जो मैं सोचूँ, जो मैं चाहूँ,
दे पाएँगे मुझको…?
अगर प्रकृति जीवनदाता,
साथ नहीं भी देगी…
छीन लाऊंगा उससे मैं,
आशाएँ जीवन की…

 

कर लूँगा इक दिन मुक्त स्वयं को,
तोड़ बेडियाँ सारी…
होंगे पूर्ण सब स्वप्न मेरे,
और होगा बड़ा तब परिवर्तन…
होगा प्रकाश का आगमन,
तब मेरे भी जीवन में…
मैं उड़ना चाहूँ मुक्त गगन में…
उड़ना चाहूँ मुक्त गगन में…

 

– प्रवीण

42 Comments

  1. sandeep says:

    wakai praveen aapne bahut hi achchchhi kavita likhi hai apki anya 3 teen kavitayen bhi bahut achchhi hain ab me is poem ke bare me jyada nhi likh skta qki iske liye mere pas shabd hi nhi hain apka prayash ek na ek din jarur is duniya me jarur rang layega.

    hamari dua hai aap is hi trh kavita likhte rahen,
    or jeevan me apne hi nhi dusro ke bhi,
    kavita ke madhyam se khushiyan bikherte rahen.
    jai P4Poetry!

  2. dr.paliwal says:

    प्रविनजी बहुत ऊँची उड़ान भरती हुई यह आपकी कविता
    बड़ी मनभावन है, गगन की उस ऊंचाई को आप जरुर छू लेंगे
    ऐसी आशा है, ना ना चिंता मत करिएजी हमारी शुभकामनाए
    आपके साथ ही रहेंगी…..
    बधाई…..

  3. VishVnand says:

    बहुत अच्छी कविता, बहुत मन भायी,
    इस सुंदर कविता के लिए हार्दिक बधाई ….!

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @VishVnand ji, anokha hai aapka andaaz…jo banata hai aapko aur bhi khaas…bahut hi pavitra hriday hai aapka…jo sun leta hai in shabdon ki aawaz… 🙂 dhanyawad ji… 🙂

  4. sangeeta says:

    पाठकों को उत्सािहत करती, उनके मन में भी आप ही् कीे तरंह स्वय को मुक्त करने की
    आपकी यह किवता-रूपी उडान अत्यिध प॒शंसनीय है ।

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @sangeeta ji, udaan koi bhi ho…akele sambhav nahi hoti…is udaan mein sahyog ke liye aapka bahut-bahut dhanywad… 🙂

  5. sonal says:

    कर लूँगा इक दिन मुक्त स्वयं को…
    तोड़ बेडियाँ सारी…
    होंगे पूर्ण सब स्वप्न मेरे…
    और होगा बड़ा तब परिवर्तन…

    बहुत अच्छी कविता लिखी है आपने !

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @sonal ji, har bade parivartan ke liye pahal to karni hoti hai…to kyun na ham ek ek kadam aage barhate chalein…aasha hai ek na ek din poori hogi hamari udaan… 🙂 dhanyawaad… 🙂

  6. rajivsrivastava says:

    Aap ki rachna aachi hai par is pratiyogita ke shirsak ke anukul nahi hai.ye ek vayakti ki kwaish ka jikr hai isme pran jaisi koi baat nahi hai,har aadmi cahata hai ki wo unmukt gagan main vichran kare.Aur behtar hota gar aap koi nai rachna is vishay par likhte. pratiyogita ke liye ———-Mere batoo ko anyatha mat lijiyega.apna prem dete rahiyega.

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @rajivsrivastava, केवल प्रतियोगिता के लिए कुछ भी लिख देना निजी तौर पर मुझे पसंद नहीं (जैसा कि आपका प्रण-पुराण है)…और इस बात का निर्णय तो निर्णायक के हाथ है कि उसे रचना कैसी लगती है…हम और आप कौन होते हैं इस बात का फ़ैसला करने वाले कि रचना प्रतियोगिता के विषय हेतु उपयुक्त है या अनुपयुक्त…वैसे भी अपना-अपना मत है…प्रण की परिभाषा पर आपको थोड़ा और अध्ययन करने की आवश्यकता है…

      कमेन्ट के लिए धन्यवाद्… 🙂

      • rajiv srivastava says:

        @P4PoetryP4Praveen, main adhyan awash karoonga–waise kai dino se aap ke isi tarah ke comment ki mujhe aasha the.Pratiyogita ke naam pe hi nahi ,is site par kuch bhi likh kar post kar dena is site ki mariyada ko thesh pahunchati hai.Main aap ke is comment ko tahe dil se sweekarta hun aur prabhu se prathna karata hun ki is bar ke winner aap hi ho.
        Kripys apna hindi gyan se mujhe labhanwit karte rahiyega——— saprem dhanyavad

        • P4PoetryP4Praveen says:

          @rajiv srivastava, पहले तो आपको मेरी रचना अनुपयुक्त, प्रतिकूल एवं आम आदमी की सोच लगी थी, और इसमें प्रण जैसी कोई बात नज़र नहीं आई थी…फिर अब अचानक ऐसा क्या हुआ कि आप मुझे विजेता ही बना रहे हैं? राजीव भाई आपके ये एक-दूसरे से एकदम विपरीत कमेन्ट मेरी समझ के बाहर हैं…

          दूसरी बात, आपका आशय समझ नहीं पा रहा हूँ कि “मेरे इसी तरह के कमेन्ट की आशा थी” इसे भी कृपया स्पष्ट करें…

          रही मेरे हिंदी ज्ञान को बाँटने की बात, तो यदि कोई एक ही ग़लती बार-बार दोहराता रहे तो कब तक उसे सही किया जाये? आप ही सोचिये? आपने आज तक बिंदियों एवं अशुद्धियों पर विशेष ध्यान नहीं दिया है…इस मामले में “विश्व दादा” का कोई सानी नहीं…वे हमेशा सुधार एवं प्रगति के चाहक रहे हैं…और तुरंत सहर्ष बड़ी ही गंभीरता से समझ जाते हैं…

          आशा है…आगे से आप गहन विचार के बाद ही कोई रचना एवं बात प्रस्तुत करेंगे…

          • rajiv srivastava says:

            @P4PoetryP4Praveen, yadi ab main kuch likunga to yahan vaad-vivad pratiyogita prarabh ho jayegi.jo is manch ke liye sahi nahi hai–par main aap ki baato ka jawab awash dena chahta hun–isliye aap ko personal mail bhej raha hun .kripya awash padiyega.jahan tak Aap bech main Visva sir ko le aaye hai to main bata dun ki nahi to main nahi to aap unki charno ke dhool ke barabar hai.yahi baat yadi unhe kahni hoti to bahut sahaj dhang se kahte.Kair aap ko waha tak pahunchne ke liye shayad agaa janam lena padega.kirpya jo bhi comment dene ho wo mere personal message par digiyega jisse is manch ki mariyada bani rahe.

            • Vishvnand says:

              @rajiv srivastava & P4PoetryP4Praveen,

              I am feeling greatly pained and ashamed to read such type of interaction between two esteemed members of our p4poetry, both of whom I hold in very high regard for their talent and ability and that too arguments on an issue which is so silly and insignificant.
              Uncalled for anger seems to have shadowed their wisdom in this instance before writing the comments starting with Rajiv unnecessarily commenting on the poem about its consideration or otherwise for the contest and Praveen’s equally undesirable response. I hope matters will be sorted out not in open by both of them but separately when both with wisdom will realise their follies
              and come to terms with facts & as friends at the esteemed p4poetry…..
              I am looking forward to the news of amicable understanding & hearty resolution in this case…..

              • rajivsrivastava says:

                @Vishvnand, sir ji aap ko kast diya iska mujhe khed hai sir,par sir ye prarambh maine nahi kiya tha-ye praveen ji ne meri rachna pe anawasyak comment diya tha –wo bhi jab contest ki date samapt ho chuki the–yadi wo vastav main meri rachna main sudhar chahte the to unhe ye pahle kahana chahiye tha—aur maini bhi wahi pratikiriya di jo mujhe sahi laha— yadi koi kisi ki aalochna karta hai to use kudh ki aalochna sanhe ki aadat honi chaliye,maine jo mujhe sahi lagai baat likh di to praveen ji ko itna bura laga.Mera maksad kewal pratriyogita main bhag lene ka hai–main puraskar ke liye kabhi nahi bhag leta—- ab jad vivad uth gaya hai to mujhe is pratiyogita main sahamil hona bhi bura lag raha hai isliye main apni ye rachna is pratiyogita se wapas leta hun.Aap ko aghat pahuncha sir main mafi chahta hun==aur mafi mangta hun is manch se.

                • rajivsrivastava says:

                  @rajivsrivastava, sir kis ne pahal hi ye aap mere aur praveen ji ke comment ke date se andaja laga sakte hai–unhone apna anawasyak comment 1 feb ko diya –maine 2 feb ko apni pratikiriya likhi .bura bas yahi laga unhe apna comment pratiyogita ke date ki samapti ke pahle deni chahiye the—main praveen ji ki bahut izzat kartan hun islliye bura laga aur koi baat nahi hai

                  • Vishvnand says:

                    @rajivsrivastava
                    I have studied the matter. I understand what you indicate. I don’t want to single out any one. Both of you jointly are unfortunately responsible for the undesirable misunderstanding because of giving your own meaning to the others point of view, I am sure it will be solved by you two between you two very amicably for you have the desired regard for each other.
                    One thing more. Your intention to withdraw your poem from the contest due to this misunderstanding interaction is unfortunately not a solution or remedy but contrary to it & unnecessary. Please leave it to the Judges of the contest. Let them perform their duties independently & impartially where these remarks or interactions are of no meaning & consideration at all and the poems are independently judged.. Hope you would agree to my observation and suggestion.

                    • P4PoetryP4Praveen says:

                      @Vishvnand, मैं इस मामले में चुप्पी साधने का प्रयास कर रहा था…लेकिन ज़बरदस्ती मेरे मुँह से शब्द निकलवाए गए और निकलवाए जा रहे हैं…

                      पहली बात, इस प्रकार की प्रतिक्रिया किसी भी रचनाकार से अपेक्षनीय नहीं है…फिर भी अगर बदला लेना ही था तो सही ग़लती पर लेना चाहिए था…वैसे भी मैं आलोचना कभी नहीं करता, केवल भाषागत ग़लतियों पर ही ध्यान केन्द्रित कराता हूँ…जो कि मुझसे बर्दाश्त नहीं होती हैं…(आगे से बर्दाश्त करूँगा)…

                      दूसरी बात, मैं कमेन्ट करते वक़्त तारीख़ और समय का कभी ध्यान नहीं रख पाता हूँ…(शायद अधिकतर लोग इस मंच पर ऐसे ही होंगे) चूँकि मैं एक फ्रीलांसर हूँ…जब भी वक़्त मिलता है…इस मंच पर आ जाता हूँ…और वैसे भी प्रतियोगिता में ऐसा कहीं ज़िक्र नहीं है कि हम रचना में एडिटिंग नहीं कर सकते…(मामले को बिना बात तूल दिया जा रहा है…)

                      तीसरी बात, यदि मेरी बात में सचमुच ऐसी कोई प्रेरणा नज़र आती है…तो आगे से मैं किसी की भी रचना पर कुछ भी प्रतिक्रिया नहीं दूँगा…बल्कि इस मंच से अपनी सक्रियता भी सीमित रखूँगा…क्योंकि ज़िंदगी में वैसे ही काफ़ी सारी परेशानियाँ होती हैं…यहाँ सुकून की तलाश की तो यहाँ भी परेशानी ही हाथ लग रही है…

                      चौथी बात, हिंदी भाषा के क्षेत्र में एडिटर के रूप में विगत कई वर्षों से कार्यरत हूँ…बड़े-बड़े लेखकों ने भी सुधार के प्रति प्रेम ही दिखाया है…बदले की भावना नहीं…सो मन और भी दुखी है…

                      पांचवीं बात, मेरी क्षमताओं एवं आत्मसम्मान को चुनौती देने वाली कोई भी बात चाहे वो किसी ने भी की हो…बर्दाश्त नहीं की जाएगी…मैं बहुत अच्छे से वाकिफ़ हूँ…और आलोचना भी सही हो तभी अच्छी लगती है…अन्यथा ऐसे ही नकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है…

                      अंतिम बात…चाहूँगा कि इस मुद्दे पर और कोई बात न की जाये…क्योंकि मेरे ख़याल से सारी बातें साफ़ हो गयी होंगी…

                      दादा आपके सुझाव एवं प्रेम का तहेदिल से शुक्रिया…
                      राजीव भाई आपका भी धन्यवाद्…

                    • Harish Chandra Lohumi says:

                      @P4PoetryP4Praveen,
                      माफ़ कीजियेगा प्रवीण जी ! कोई भी बात साफ़ नहीं हुई है बल्कि और भी उलझती लग रही है । मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा है कि आप ने हम सभी के प्यार को दर किनार कर कैसे अपनी तीसरी बात कह दी ।
                      प्रवीण जी ! आपने कुछ तो अन्य लोगों की भावनाओं का खयाल रखा होता! क्या यही कवि हृदय है ? जरा सोचिये ! क्या यही है p4praveen का p4pyaar ! 🙂
                      हम जानते हैं कि भावोवेश में आकर आपने ये सब बातें लिखी हैं और आप उपरोक्त सभी बातों पर दुबारा विचार करेंगे । यह अपील है हमारी । 🙂
                      प्रवीण भाई ! अभी भी गुस्से में हैं क्या ? नहीं ना ! 🙂
                      मतभेद तो दूर हो सकता है लेकिन मन भेद नहीं ध्यान रखियेगा ।
                      स्नेह बनाये रखें ! प्रवीण जी ! और ध्यान रखियेगा आपकी सप्रेम भेंट (5 स्टार्स)
                      और प्यार भरी प्रतिक्रिया और सुझावों का इन्तज़ार कर रहीं हैं मन्च पर कई रचनायें ! आ रहे हैं ना ! 🙂

                    • P4PoetryP4Praveen says:

                      @P4PoetryP4Praveen, हरीश जी, आप सभी के प्यार का ही तो प्रभाव है जो इस मंच पर अब तक बना हुआ हूँ…वरना कब का जा चुका होता…

                      और भावावेश नहीं…ये तो दुखी हृदय की पुकार थी…जो वक़्त के साथ अब शांत हो चुकी है…

                      रचनाओं पर प्रतिक्रिया के विषय में अभी भी विचार कर रहा हूँ…अगर आप सभी मुझे प्रेरित करेंगे और ये विश्वास दिलाएँगे कि सही बात को सही तरीक़े से ही लिया जायेगा तभी मैं हिम्मत कर सकूँगा… 🙂

                      आपके स्नेह एवं अपनत्व का सदैव आभारी रहूँगा हरीश जी… 🙂

                    • Vishvnand says:

                      @P4PoetryP4Praveen
                      आपका कमेन्ट, हरीशजी की reply और उसपर आपका कमेन्ट पढ़ा.
                      इतना ही कहना चाहूँगा कि ये बात इतनी खुद के दिल को दुखा देने की कतई नहीं होना चाहिए.
                      आप जिस विषय के ज्ञानी हैं, उस विषय में आपका इस साईट पर योगदान और इसके लिए अपना समय देना passion for poetry के मेम्बरों के लिए ( including me) बहुमूल्य रहा है और सबने आपके इस योगदान की प्रशंसा की है . कोई एक वाकिया और वो भी इक misunderstanding से ये सत्य मिट नहीं सकता.
                      आपसे मेरा विनम्र अनुरोध है कि आप p4poetry पर आपका यह योगदान प्यार और उत्साह से जारी रखें और कोई भूल से किसी गल्ती ने आपके दिल को ठेस पहुंचाई हो तो उसे हमसब के लिए नज़रअन्दाज़ कर दें.
                      सब मेम्बर्स जो सही हिन्दी में रचना रचने का प्रयास कर रहे हैं उनके लिए आपका input बहुत जरूरी है …
                      अनुरोध है कि सब भूलकर आप जैसे थे वैसे ही फिर p4poetry पर खुशी से कार्यरत रहें और यही हमारी मनोकामना है.

  7. renukakkar says:

    nice poem, closer to life…even i have not liked the topic of this january contest…it is more like a political manifesto thing..resolution or prun or pledge is not only for improving political, social and economic situations…it is also improvement of self

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @renukakkar, Thanks a lot for your beautiful words Renu ji… 🙂

      Right said…वैसे भी कविता को कविता ही रहने देना चाहिए…प्रतियोगिता के चक्कर में कुछ भी लिख देना ठीक नहीं…इससे कविता एवं कवि दोनों की गरिमा को ठेस पहुँचती है…

      आपकी बातों से पूर्णतः सहमत… 🙂

      भविष्य में आपके सुझावों की प्रतीक्षा में…

  8. renukakkar says:

    congrats, i had rated your poem as the first and i was not wrong….. runner up i thought wrong 🙂

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @renukakkar, Thanks a lot for your best wishes Renu ji… 🙂

      इसी तरह अपना विश्वास एवं प्रेम बनाये रखियेगा… 🙂

  9. Gargi says:

    बहुत-बहुत बधाई प्रवीणजी…!
    कहते हैं ना old is gold… यह आपकी यह कविता सिद्ध करती है…

    आज बहुत लम्बे समय के बाद आना हुआ और आज परिणाम भी आया.. अच्छा लगा..

    एक बार फिर से दिलसे बधाई….
    ऐसे ही आगे भी सुन्दर कविताएँ एवं कविताओं पे योग्य टिप्पणी मिलती रहे… आशा सह…!

  10. Harish Chandra Lohumi says:

    बहुत अच्छी रचना प्रवीण जी ।
    वाह, मुक्त हो गगन में उडने की चाह।

  11. sushil sarna says:

    एक सुंदर और भावना प्रधान रचना-रचना मन भायी-हार्दिक बधाई इस सुंदर रचना और भीड़ में अपने आपको अलग से प्रस्तुत कर जीतने के लिए मुबारक प४ परवीन जी

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @sushil sarna, आपका हृदय से आभारी हूँ सुशील जी…मेरी भावनाओं को समझने के लिए… 🙂

  12. parminder says:

    बहुत लम्बे अंतराल के बाद पी४ के दर्शन कर रही हूँ, बहुत अच्छा लग रहा है! सबसे पहले आपको जीत की बहुत बधाई! रचना वाकई बहुत सुन्दर है!
    ऊपर इतना ज़्यादा वाद-विवाद पढ़कर बहुत कष्ट हुआ, क्या हम सब इतने परिपक्व नहीं कि छोटी-मोटी बातों को आयी-गयी कर दें? मुस्कुराकर “कोई बात नहीं” कहने से अनेक झगड़ों का बीज पनप ही नहीं पाता !

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @parminder, आपका इस मंच पर पुनः स्वागत है…बधाई को हृदय से स्वीकार करता हूँ… 🙂

      एवं रचना की प्रशंसा के लिए धन्यवाद… 🙂

      • P4PoetryP4Praveen says:

        @P4PoetryP4Praveen, परमिंदर जी, अगर कोई बात हो तो उसे आई-गई करते न…कोई बात ही नहीं थी तभी तो ग़लतफ़हमी दूर करना आवश्यक हो जाता है…मैं हमेशा रचनाओं में होने वाली भाषागत ग़लतियों को सुधारने हेतु प्रेरित करता हूँ…बस यही बात किसी को पसंद आती है तो किसी किसी को नहीं भी आती…इसलिए ये कार्य बंद कर दिया है अब मैंने…ताकि आगे कोई वाद या विवाद न हो…और अब मैं हर रचना पर केवल मुस्कुराता हूँ…और कोई भी प्रतिक्रिया नहीं देता… 🙂

        क्या फ़ायदा पानी में डूबते को बचाने जाओ और ख़ुद ही डूब जाओ…?! बस मुस्कुराते रहो…सही है ना?

  13. prerna singh says:

    awesome..poem sir its very different……….lovely.@@

  14. kishan says:

    meri aur se badhai swikar kare bhai jaan,..jai shree krishna

    • P4PoetryP4Praveen says:

      @kishan, आपकी प्रेमपूर्ण बधाई एवं शुभकामना के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद् किशन भाई… 🙂

      जय श्री कृष्ण… 🙂

Leave a Reply