« »

पत्नी

3 votes, average: 3.67 out of 53 votes, average: 3.67 out of 53 votes, average: 3.67 out of 53 votes, average: 3.67 out of 53 votes, average: 3.67 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

हर घर में एक लादेन रहती है
जो बहार से आकर
तीन चौथाई घर पर
कब्ज़ा जमा लेती है
घर वालों की स्वतंत्रता पर
सीधे आक्रमण कर
क्या नही करना है का
फरमान जरी कर देती है
रिश्तेदारों के डब्लू.टी सी रूप में
खड़े अभिमान को
अपनी कूटनीति से
ध्वस्त कर देती है
ख़ुद जो भी करे जायज़
घर वाले जो भी करें नाजायज़
तोड़ फोड़ की कार्यवाही में
पूरे जीवन लिप्त रहकर भी
परिवार की निर्माणकर्ता कहलाती है
स्त्री लादेन की ये अति
जीवनपर्यंत सहेगा
अफगानिस्तान रुपी पति

 

9 Comments

  1. Rakesh Verma says:

    main aapse sehmat hoon kyonki
    main bhi ek AFGANISTAN hoon
    Niiiiiiiiiiiccccccccceeeeeeee Poem….!

  2. sjoshi1 says:

    bahut mast kavita hai

  3. spmisra says:

    Veri funny!!!!!!!!!!!!!!!!!!!chit bhi apni patt bhi apni. waise joke achchha hai.

  4. renu rakheja says:

    अच्छा व्यन्ग है…

  5. VishVnand says:

    A good Poem. Good Humour.
    But we should now expect an appropriate poem, a fitting response, to this from the opposite side. Let’s keep ourselves in readiness.

  6. Vikash says:

    अच्छे व्यंग्य की काफी संभावना है. 🙂

  7. Rahul Pathak says:

    Good poem . Straight from the heart . Very nice expression .

  8. रवि says:

    वाह! मजेदार कविता है. परंतु इस लादेन की सबको जरूरत होती है… 🙂

  9. Renu Sharma says:

    Dr.vimal sharma ji ,aapki kavita bahut sundar hai .aap us laaden se pareshan hain main us afagaanistan se.aapki kavita ka jawav haajir hai.”pachas ka uvaa ” pad kar vichar viyakt kariye .

Leave a Reply