« »

pankhuri-24

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

अभी सितारों  की चमक बाकी है
अभी चूडियों  की खनक बाकी है
अभी पलकों पे लाज के पहरे हैं
अभी अधरों की कसक बाकी है

सुशील सरना

Leave a Reply