« »

pankhuri-23

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

क्यों सजाया है मैखाना
हम क्या बताएं
क्यों छलका है पैमाना
हम क्या बतायें
मिट जाता है बाद जलने के
फिर भी
क्यों जलता है परवाना
हम क्या बतायें

सुशील सरना

One Comment

  1. Vinita Karsh says:

    Apki Jitni Tarif ki Jaye Kam Hai.

Leave a Reply