« »

जीवन-मृत्यु

1 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 5
Loading...
Crowned Poem, Hindi Poetry
बचपन
जीवन को जानने की जिज्ञासा
एक निरंतर प्रक्रिया
एक मुट्ठी आसमाँ सुख की अनुभूति
एक कागज़ का टुकडा भी एक खिलौना
एवं पूर्व संतुष्टि ।
जवानी
जीवन को जीने की भूख
एक असफल प्रयास
भौतिक आसमाँ की प्राप्ति सुख की अनुभूति
कागज़ के टुकड़े के हाथों सवयं एक खिलौना
एवं क्षणिक संतुष्टि
बुढापा
भय मृत्यु से समीपता का
मृत्यु को जानने की उत्कंठ अभिलाषा
एक सतत् सत्य
क्षितिज के पार झाँकने का मन
बोध सवयं की सीमितता का
असीम की परिकल्पना
असंतुष्टि ।
विमल शर्मा

7 Comments

  1. sandeep says:

    very good

  2. renu rakheja says:

    you have said a profound truth and that too so beautifully !

  3. vickey kashyap says:

    exlent
    …………………………………………

  4. Asma says:

    very thoughtful indeed… i like the last stanza- its deep n flawless…

  5. Shreyansh says:

    i am not an expert in hindi but i just loved the way the
    poem progresses.

  6. kailash dubey says:

    kavita ka darshnik pahlu bahut achcha hai.

  7. renu sharma says:

    very good poem.

Leave a Reply